Follow us on Facebook

Maine Patharon Ko Bhi Rote Dekha Hai - 4 Lines Shayari

Maine Patharon Ko Bhi Rote Dekha Hai - 4 Lines Shayari
Maine Patharon Ko Bhi Rote Dekha Hai - 4 Lines Shayari



मैंने पत्थरों को भी रोते देखा है, झरने के रूप में
मैंने पेड़ों को प्यासा देखा है, सावन की धुप में,
घुलमिल के बहुत रहते हैं, लोग जो शातिर हैं बहुत
मैंने अपनों को तनहा देखा है, बेगानों के रूप में !!
Maine Patharon Ko Bhi Rote Dekha Hai - 4 Lines Shayari Maine Patharon Ko Bhi Rote Dekha Hai - 4 Lines Shayari Reviewed by Bhagyesh Chavda on October 21, 2017 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.