Follow us on Facebook

Ads Top

Eid Shayari | ईद शायरी


मिल के होती थी कभी ईद भी दीवाली भी
अब ये हालत है कि डर डर के गले मिलते हैं
अज्ञात

Mil ke hoti thi kabhii Eid bhii Diwaali bhii
Ab ye haalat hai ki dar dar ke gale milte hain
Unknown

*****
माह-ए-नौ देखने तुम छत पे न जाना हरगिज़
शहर में ईद की तारीख़ बदल जाएगी
माह-ए-नौ – नया चाँद (New Moon)
जलील निज़ामी

Maah-e-nau dekhne tum chhat pe n jaanaa hargiz
Shahar mein Eid ki taariikh badal jaayegii

Jaleel Nizami
*****
है ईद का दिन आज तो लग जाओ गले से
जाते हो कहाँ जान मिरी आ के मुक़ाबिल
मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

Hai Eid ka din aaj to lag jaao gale se
Jaate ho kahan jaan miri aa ke mukaabil
Mushafi Ghulam Hamdani

*****
हासिल उस मह-लक़ा की दीद नहीं
ईद है और हम को ईद नहीं
मह-लक़ा – चाँद सा मुखड़ा
दीद – दर्शन

बेखुद बदायुनी

Haasil us mah-lakaa kii diid nahin
Eid hai aur ham ko Iad nahin
Bekhud Badayuni

*****
तुम बिन चाँद न देख सका टूट गई उम्मीद
बिन दर्पन बिन नैन के कैसे मनाएँ ईद

बेकल उत्साही
Tum bin chaand n dekh sakaa toot gai ummiid
Bin darpan bin nain ke kaise manaayen Eid
Bekal Utsahi
*****
उस से मिलना तो उसे ईद-मुबारक कहना
ये भी कहना कि मिरी ईद मुबारक कर दे
दिलावर अली आज़र

Us se milnaa to use Eid-Mubaarak kahnaa
Ye bhii kahnaa miri Eid Mubaarak kar dein
Dilawar Ali Aazar
*****
तुझ को मेरी न मुझे तेरी ख़बर जाएगी
ईद अब के भी दबे पाँव गुज़र जाएगी
ज़फ़र इक़बाल

Tujh ko meri n mujhe terii khabar jaaegii
Eid ab ke bhii dabe paanv gujar jaayegii
Zafar Iqbal
*****
महक उठी है फ़ज़ा पैरहन की ख़ुशबू से
चमन दिलों का खिलाने को ईद आई है
पैरहन – कपड़े

मोहम्मद असदुल्लाह
Mahak uthii hai fazaa pairhan ki khushboo se
Chaman dilon ka khilaane ko Eid aai hai
Mohammad Asadullah
*****
कहते हैं ईद है आज अपनी भी ईद होती
हम को अगर मयस्सर जानाँ की दीद होती
ग़ुलाम भीक नैरंग

Kahate hain Eid hai aaj apani bhii Eid hotii
Ham ko agar mayssar jaanaa kii diid hotii
Ghulam bhik Nairang
*****
ईद को भी वो नहीं मिलते हैं मुझ से न मिलें
इक बरस दिन की मुलाक़ात है ये भी न सही
शोला अलीगढ़ी
Eid ko bhi wo nahin milate hain mujh se n milen
Ik baras din kii mulaakaat hai ye bhii n sahii
Shola Aligarhi
*****
ईद का दिन है गले आज तो मिल ले ज़ालिम
रस्म-ए-दुनिया भी है मौक़ा भी है दस्तूर भी है
क़मर बदायुनी

Eid ka din hai gale aaj to mil le zaalim
Rasm-e-duniya bhii hai maukaa bhii hai dastoor bhii hai
Qamar Badayuni
*****
ईद का चाँद जो देखा तो तमन्ना लिपटी
उन से तक़रीब-ए-मुलाक़ात का रिश्ता निकला
तक़रीब-ए-मुलाक़ात – मिलने का समय
रहमत क़रनी

Eid ka chaand jo dekhaa to tamnna liptii
Un se takriib-e-mulaakaat ka rishta nikalaa
Rahmat Qarni
*****
ईद अब के भी गई यूँही किसी ने न कहा
कि तिरे यार को हम तुझ से मिला देते हैं
मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

Eid ab ke bhii gai yunhii kisii ne n kahaa
Ki tire yaar ko ham tujh se milaa dete hain
Mushafi Ghulam Hamdani
*****
ईद आई तुम न आए क्या मज़ा है ईद का
ईद ही तो नाम है इक दूसरे की दीद का
अज्ञात

Eid aai tum n aae kya mazaa hai Eid kaa
Eid hii to naam hai ik doosare kii diid kaa
Unknown
*****
देखा हिलाल-ए-ईद तो आया तेरा ख़याल
वो आसमाँ का चाँद है तू मेरा चाँद है
अज्ञात

Dekhaa hilaal-e-Eid to aayaa teraa khyaal
Wo aasmaan kaa chaand hai too meraa chaand hai
Unknown
*****
अपनी ख़ुशियाँ भूल जा सब का दर्द ख़रीद
‘सैफ़ी’ तब जा कर कहीं तेरी होगी ईद
सैफ़ी सरौंजी

Apani khushiyaan bhool jaa sab ka dard khariid
‘Saifi’ tab jaa kar kahin terii hogii Eid
Saifi Saronji
******

No comments:

Powered by Blogger.