Follow us on Facebook

Ads Top


Toh kya hai - Galib


Har eik baat pay kehtay ho tum key ‘toh kya hai’ ? 
Tumhi kaho key ye andaaz-e-guftguu kya hai ? 
Ragon may daudtay firnay kay ham nahi qayal, 
Jab aankh hi say na tapkaa to firr lahoo kya hai ?

हर एक बात पर कहते हो तुम के "तो क्या है" ,
तुम्ही कहो के ये अंदाज़-ए-गुफ्तगू क्या है ,
रंगो में दौड़ते फिरने के हम नही कायल ,
जब आँख ही से ना टपका तो फिर लहू क्या है ।

No comments:

Powered by Blogger.