Follow us on Facebook

Ads Top

{ Maa Shayari } Munawwar Rana – Ishq hain to ishq ka izhaar hona chahiye


{ Maa Shayari } Munawwar Rana – Ishq hain to ishq ka izhaar hona chahiye
{ Maa Shayari } Munawwar Rana – Ishq hain to ishq ka izhaar hona chahiye

Munawwar Rana
*****
Ishq hain to ishq ka izhaar hona chahiye
Ishq hain to ishq ka izhaar hona chahiye
Aap ko chehre se bhi beemar hona chahiye
Aap dariya hain toh iss waqt hum khatre mein hain
Aap kashti hain toh hum ko paar hona chahiye
Aire – gaire log bhi padhne lage hain inn dino,
Aap ko aurat nahi akhbaar hona chahiye.
Zindagi  kab talak dar-dar phirayegi humein
Toota phoota hi sahi, ghar baar hona chahiye
Apni yaadon se kaho ek din ki chhutti de mujhe
Ishq ke hissey mein bhi itwaar hona chahiye

*****
इश्क है तो इश्क का इजहार होना चाहिये
इश्क है तो इश्क का इजहार होना चाहिये
आपको चेहरे से भी बीमार होना चाहिये
आप दरिया हैं तो फिर इस वक्त हम खतरे में हैं
आप कश्ती हैं तो हमको पार होना चाहिये
ऐरे गैरे लोग भी पढ़ने लगे हैं इन दिनों
आपको औरत नहीं अखबार होना चाहिये
जिंदगी कब तलक दर दर फिरायेगी हमें
टूटा फूटा ही सही घर बार होना चाहिये
अपनी यादों से कहो इक दिन की छुट्टी दें मुझे
इश्क के हिस्से में भी इतवार होना चाहिये
मुनव्वर राना 

No comments:

Powered by Blogger.