Follow us on Facebook

Ads Top

{ Maa Shayari } Munawwar rana – bulandi der tak kis shakhsh ke hisse me rahti hai (मुनव्वर राना – बुलंदी देर तक किस शख्श के हिस्से में रहती है)

{ Maa Shayari } Munawwar rana – bulandi der tak kis shakhsh ke hisse me rahti hai (मुनव्वर राना – बुलंदी देर तक किस शख्श के हिस्से में रहती है)
{ Maa Shayari } Munawwar rana – bulandi der tak kis shakhsh ke hisse me rahti hai

Bulandi der tak kis shakhsh ke hisse me rahti hai
Bulandi der tak kis shakhsh ke hisse me rahti hai
Bahut oonchi imaarat har ghadi khatre me rahti hai
Ye aisa karz hai jo main adaa kar hi nahi sakta
Main jab tak ghar na lautoon, meri maa sazde me rahti hai
Jee to bahut chahta hai is kaid-e-jaan se nikal jaayen hum
Tumhari yaad bhi lekin isi malbe me rahti hai
Ameeree resham-o-kamkhwaab me nangee nazar aaee
Garibi shaan se ek taat ke parde me rahti hai
Main insaan hoon bahak jaana meri fitrat me shamil hai
Hawaa bhi usko choo ke der tak nashe me rhati hai
Mohabbat me parakhne jaanchne se faayda kyaa hai
Kami thodi bahut har ek shazre me rahti hai
Ye apne aap ko takseem kar lete hai soobon me
Kharaabi bas yahi har mulk ke nakshe me rahti hai

 *****
बुलंदी देर तक किस शख्श के हिस्से में रहती है
 बुलंदी देर तक किस शख्श के हिस्से में रहती है
बहुत ऊँची इमारत हर घडी खतरे में रहती है
ये ऐसा क़र्ज़ है जो मैं अदा कर ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर न लौटूं, मेरी माँ सज़दे में रहती है
जी तो बहुत चाहता है इस कैद-ए-जान से निकल जाएँ हम
तुम्हारी याद भी लेकिन इसी मलबे में रहती है
अमीरी रेशम-ओ-कमख्वाब में नंगी नज़र आई
गरीबी शान से एक टाट के परदे में रहती है
मैं इंसान हूँ बहक जाना मेरी फितरत में शामिल है
हवा भी उसको छू के देर तक नशे में रहती है
मोहब्बत में परखने जांचने से फायदा क्या है
कमी थोड़ी बहुत हर एक के शज़र* में रहती है
ये अपने आप को तकसीम* कर लेते है सूबों में
खराबी बस यही हर मुल्क के नक़्शे में रहती है
शज़र  =  पेड़
तकसीम  =  बांटना
मुनव्वर राना 

No comments:

Powered by Blogger.