Follow us on Facebook

Hindi Love Poem – काँटे क़िस्मत में हो

Hindi Love Poem – काँटे क़िस्मत में हो


काँटे क़िस्मत में हो 
तो बहारें आये कैसे 
जो नहीं बस में हो 
उसकी चाहत घटाये कैसे

सूरज जो चढ़ता है 
करते है उसको सब सलाम 
ढूबते सूरज को भला 
ख़िदमत हम दिलायें कैसे

वो तो नादान है 
समंद्र को समझते है तालाब 
कितनी गहराई है 
साहिल से बताये कैसे

दिल की बातें है 
दिल वाले समझते है जनाब 
जिसका दिल पत्थर का हो 
उसको पिघलाये कैसे

काँटे क़िस्मत में हो 
तो बहारें आये कैसे 
जो नहीं बस में हो 
उसकी चाहत घटाये कैसे

-अनुष्का सूरी
Kante kismat mein ho
To baharein aye kaise
Jo nahi bas mein ho
Uski chahat ghataye kais

Suraj jo chadha hai
Karte hai usko sab salaam
Dubte suraj ko bhala
Khidmat ham dilaye kaise 

Wo to nadaan hai
Samandar ko samajhte hai talaab
Kitni gehrayi hai
Sahil se batayei kaise 

Dil ki batein hai
Dil wale samajhte hai janab
Jiska dil pathar ka ho
Usko pighlayein kaise

Kante kismat mein ho
To baharein aye kaise
Jo nahi bas mein ho
Uski chahat ghataye kaise

-Anushka Suri
Hindi Love Poem – काँटे क़िस्मत में हो Hindi Love Poem – काँटे क़िस्मत में हो Reviewed by Bhagyesh Chavda on March 20, 2017 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.