Follow us on Facebook

Ads Top

Jab kabhee phooloN ne khushboo kee tijarat kee hai


जब कभी फूलों ने ख़ुश्बू की तिजारत की है
पत्ती पत्ती ने हवाओं से शिकायत की है

सर उठाए थी बहुत सुर्ख़ हवा में फ़िर भी
हम ने पलको से चिराग़ों की हिफाज़त की है

राहत इंदौरी

Jab kabhee phooloN ne khushboo kee tijarat kee hai
patti patti Ne hawaon se shikayat kee hai

sir uthaye thee bahut surkh hawa meiN phir bhee
humne palkoN se chiraqon kee hifazat kee hai

Rahat Indori

Hindi Shayari, Urdu Shayari, Roman Shyari, English Poetry

No comments:

Powered by Blogger.