Follow us on Facebook

Ads Top

हम रात भर समेटते रहे टुकड़े दिल के।

Shamete Rahe Tukde Dil Ke
Shamete Rahe Tukde Dil Ke


हम रात भर समेटते रहे टुकड़े दिल के। 
कल कोई तोड़ गया था यू गैरों से मिल के। 
पूछ ही ना पाये उनसे सबब बेरुखी का। 
रह गये खामोश अपने लवों को सिल के।

You May Be More Shayari


No comments:

Powered by Blogger.