Follow us on Facebook

Na Jane Aaj ye Kesi Udashi Chayai He

Na Jane Aaj ye Kesi Udashi Chayai He


न जाने आज ये कैसी उदासी छाई है,
तन्हाई के बादल से भीगी जुदाई है,
इस कदर रो पड़ा है आज दिल मेरा,
न जाने आज किसकी याद आयी है !

You May Be More Shayari


Na Jane Aaj ye Kesi Udashi Chayai He Na Jane Aaj ye Kesi Udashi Chayai He Reviewed by Bhagyesh Chavda on June 19, 2017 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.