Follow us on Facebook

LOVELY ROMANTIC SHAYARI BY mukesh dewangan

LOVELY ROMANTIC SHAYARI BY mukesh dewangan


वो बारिश ही क्या जिसमें भीगा न जाए,
वो बिछड़ना ही क्या जिसमें आँसूं न आए,
 वो पल ही क्या जब तेरी याद न आए,
 वो प्यार ही क्या जिसे निभाया न जाए !

मेरे ज़हन में बसी है वो
जैसे गुल में खुशबू

मेरे ख्यालों में आती जाती
मेरे अहसासों मे शामिल वो

चिनार के पतों पे श़बनम सी
ज़नत की फ़िजा है वो

मेरी साँसों की रवानी
मेरे ज़जबातों की पैदाइश है वो

मेरे वज़ूद का अहसास
मेरी रूह की ख्वाईश है वो

बुत-ए-संगमरमर जैसे कोई
ख़ुदा की ईब़ादत सी है वो ।


Kash is jaate hue waqt ko hum rok sakte,
apno ke saath guzra har lamha jod sakte,
na jaane kitni yaadein jo apno ne di humein,
kaash zindagi ko hum peeche mod sakte. ..


Aankhon Main Mehfuz Rkhna Sitaaron Ko
Ab Dur Talak Sirf Raat Hogi
Moosafir Tum Bhi Ho Moosafir Ham Bhi Hein
Kisi Naa Kisi Mod Par Phir Mulakaat Hogi…

LOVELY ROMANTIC SHAYARI BY mukesh dewangan LOVELY ROMANTIC SHAYARI BY mukesh dewangan Reviewed by Bhagyesh Chavda on February 02, 2016 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.