Follow us on Facebook

Mahino ka intejar

वक़्त की बेवसी है ये या साजिश खुदा की कोई ख़ास है ,
दिल के है जो करीब इतना क्यों रोज़ इन आँखों को होता नही उसका दीदार है ,
कश्मकश मुहब्बत की भी बड़ी अजीब है शायर ,
पल भर की होती मुलाकात फिर वही महीनो का इंतजार है ।

Waqt ki bebasi hai ye ya sazish khuda ki koi khas hai ,
Dil ke hai jo karib itna kyo roz in ankho ko hota nahi uska deedar hai ,
Kashmkash muhbbat ki bhi basi ajeeb hai shayar ,
Pal bhar ki hoti hai mulakat fir wahi mahino intejar hai .


Mahino ka intejar Mahino ka intejar Reviewed by Bhagyesh Chavda on January 25, 2016 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.