Follow us on Facebook

HONDH KAH NAHI SHAKATE

HONDH KAH NAHI SHAKATE

होंठ कह नहीं सकते फ़साना दिल का,
नज़र से वो बात हो जाती है,
इस उम्मीद में करते हैं इंतज़ार आपका,
कनखियों से ही तेरा दीदार हो जाये !
HONDH KAH NAHI SHAKATE HONDH KAH NAHI SHAKATE Reviewed by Bhagyesh Chavda on January 19, 2016 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.