Follow us on Facebook

Berukhi mere yaar ki

अफ़साने इश्क़ के मेरे तुझे क्या सुनाऊ ,
बेरुखी मेरे यार की तुझे क्या बताऊ ,
ज़िन्दगी के हर पन्ने पर उसका नाम लिखा दिया था मैंने ए शायर ,
वो भी होके रह जाये बस मेरा ऐसा उसे क्या जताऊ ।

Afsaane ishq ke mere tujhe kya sunau ,
Berukhi mere yaar ki tujhe kya batau ,
Zindgi ke har panne par uska naam likha diya tha maien e shayar ,
Wo bhi hoke reh jaye mera


Berukhi mere yaar ki Berukhi mere yaar ki Reviewed by Bhagyesh Chavda on December 03, 2015 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.