Follow us on Facebook

Suroor ankho ke jaam ka

नशा नहीं होता अब शराब का जबसे सुरूर छाया है तेरी आँखों के जाम का ,
झुकना आदत नहीं मेरी भी शायर पर जो खुदाई और इश्क़ में भी ना झुक पाया वो सर भी किस काम का ।

Nasha nahi hota ab sharab ka jabse suroor chaya hai teri ankho ke jaam ka ,
Jhukna adat nahi meri bhi shayar par jo khudai aur ishq me bhi na jhuk paya wo sar bhi kis kaam ka .


Suroor ankho ke jaam ka Suroor ankho ke jaam ka Reviewed by Bhagyesh Chavda on November 14, 2015 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.