Follow us on Facebook

Saam hote unki yaad aane lagi

Saam hote unki yaad aane lagi

न जाने ये कैसी है उलझन,
न जाने ये कैसी है जुस्तजू,
जो कभी नहीं मिल सकता हमें,
क्यूँ है सिर्फ़ उन्हीं की आरज़ू !

Saam hote unki yaad aane lagi Saam hote unki yaad aane lagi Reviewed by Bhagyesh Chavda on November 27, 2015 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.