Follow us on Facebook

Meri muhbbat ka ehsas tu hai

मेरी खुशियो का राज़ तू है , मेरी मुहब्बत का एहसास तू है ,
मेरे दिन का आगाज़ तू है मुझे सुकून से सुलाती वो रात तू है ,
सुने है किस्से औरो की जुबान से भी पर दिल में जो बस गयी वो आवाज़ तू है ,
खाली पन्नों पर लिखता वो नाम तू है जिसको अकेले में गुनगुनाता वो राग तू है ,
मेरा गुरुर-ए-एहसास तू है , दिल में है जो बसता बस वो खास तू है ।


Meri khushiyo ka raat tu hai ,
Meri muhbbat ka ehsas tu hai ,
Mere din ka agaz tu hai ,
Mujhe sukoon se sulati wo raat tu hai ,
Sune hai kisse auro kis juban se bhi ,
Par dil me jo bus gayi wo awaz tu hai ,
Khali panno par likhta wo naam tu hai ,
Jisko akele me gungunata wo raag tu hai ,
Mera guroor-e-ehsas tu hai ,
Dil m hai jo basta bus wo khas tu hai .


Meri muhbbat ka ehsas tu hai Meri muhbbat ka ehsas tu hai Reviewed by Bhagyesh Chavda on November 01, 2015 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.