Follow us on Facebook

हो गयी शाम किसीके इंतज़ार में

हो गयी शाम किसीके इंतज़ार में

हो गयी शाम किसीके इंतज़ार में,
ढल गयी रात उसीके इंतज़ार में,
फिर हुआ सवेरा उसके इंतज़ार में,
इंतज़ार ही मुकद्दर बन गयी इंतज़ार में !

हो गयी शाम किसीके इंतज़ार में हो गयी शाम किसीके इंतज़ार में Reviewed by Bhagyesh Chavda on November 17, 2015 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.