Hotho par ek muskurahat utri he - Hindi Shayari
Follow us on Facebook

Hotho par ek muskurahat utri he


Hotho par ek muskurahat utri he


Uski surat se to hu anjan ab tak par muhbbat dil tak ruhani utari h ,
Uske ijehar m muhbbat to dikhti h mujhe dil-e-arzoo m uske kisi aur ki nishani utri h ,
M iljam nhi laga skta bewafai ka us par ,
Kyuki dil par uske bhi talwar bemayani utri h ,
Bus ab ek soch dil main aati h kaunsi h wo baate jo usko hasati h ,
Lagta h bita du zindgani meri ek kirdar bankar ,
Jab jab bato se meri uske hotho par ek muskurahat utri h .

उसकी सूरत से तो हु अनजान अब तक पर मुहब्बत दिल तक रूहानी उतरी है ,
उसके इजहार में मुहब्बत भी दिखती है मुझे पर दिल-ए-आरज़ू में उसके किसी और की निशानी उतरी है ,
मैं इल्जाम नहीं लगा सकता बेवफाई का उस पर क्योंकि दिल पर भी उसके तलवार बेमयानी उतरी है ,
बस अब एक सोच दिल में आती है कौनसी है वो बाते जो उसको हँसाती है ,
लगता है बिता दू ज़िंदगानी मेरी एक किरदार बनकर जब जब बातो से मेरी उसके होठो पर एक मुस्कराहट उतरी है ।

Hotho par ek muskurahat utri he Hotho par ek muskurahat utri he Reviewed by Bhagyesh Chavda on April 09, 2017 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.